Vaaste lyrics in English | Dhvani Bhanushali | Nikhil D’Souza

🎧 Vaaste lyrics in English and Hindi “

 

🎬 🎧 Credits: The song was sung by Dhvani Bhanushali & Nikhil D’Souza, Music by Tanishk Bagchi composed by Tanishk Bagchi and the lyrics was written by Arafat Mehmood Featuring Siddharth Gupta and Anuj Saini, Music Label – T-Series

🎧 Vaaste lyrics in English “

 

Vaaste Jaan Bhi Du
Main Gawah Emaan Bhi Du
Kismato Ka Likha Mod Du
Badle Mein Main Tere
Jo Khuda Khud Bhi De
Jannate Sach Kahu Chhod Du

Tumse Zaada Main Na Jaanu
Tumse Khud Ko Main Pehchanu
Tumko Bas Main Apna Maanu Mahiya

Vaaste Jaan Bhi Du
Main Gawah Emaan Bhi Du

Kismato Ka Likha Mod Du

Tere Alava Koi Bhi Khawish
Nahi Hai Baaki Dil Mein
Kadam Uthau Jaha Bhi Jaau
Tujhi Se Jaau Millne

Tere Liye Mera Safar
Tere Bina Main Jaau Kidhar

Tumse Zaada Main Na Jaanu
Tumse Khud Ko Main Pehchanu
Tumko Bas Main Apna Maanu Mahiya

Vaste Jaan Bhi Du
Main Gawah Emaan Bhi Du
Kismato Ka Likha Mod Du

Badle Mein Main Tere
Jo Khuda Khud Bhi De
Jannate Sach Kahu Chhod Du

Tu Hi Hai Sawera Mera
Tu Hi Kinara Mera
Tu Hi Hai Dariya Mera
Khuda Ka Jariya Mera

Tujhi Se Hota Shuru

Ye Mera Kaarwan
Tujhi Pe Jaake Khatam
Ye Mera Saara Jaha

Vaaste Jaan Bhi Du
Main Gawah Emaan Bhi Du
Kismato Ka Likha Mod Du

“ 🎧 Vaaste lyrics in Hindi “

 

वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ
बदले में मैं तेरे
जो ख़ुदा खुद भी दे
जन्नतें सच कहूँ छोड़ दूँ
तुमसे ज़्यादा मैं ना जानू
तुमसे खुदको मैं पहचानूँ
तुमको बस मैं अपना मानूँ माहिया

तुमसे ज़्यादा मैं ना जानू
तुमसे खुदको मैं पहचानूँ
तुमको बस मैं अपना मानूँ माहिया

वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ

तेरे अलावा कोई भी ख़्वाहिश
नही है बाक़ी दिल में
कदम उठाऊं जहाँ भी जाऊँ
तुझी से जाऊँ मिल मैं

तेरे अलावा कोई भी ख़्वाहिश
नही है बाक़ी दिल में
कदम उठाऊं जहाँ भी जाऊँ
तुझी से जाऊँ मिल मैं

तेरे लिए मेरा सफ़र
तेरे बिना मैं जाऊँ किधर

तुमसे ज़्यादा मैं ना जानू
तुमसे खुदको मैं पहचानू
तुमको बस मैं अपना मानूँ माहिया

वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ
बदले में मैं तेरे
जो ख़ुदा खुद भी दे
जन्नतें सच कहूँ छोड़ दूँ

तू ही सवेरा मेरा
तू ही किनारा मेरा
तू ही है दरिया मेरा
ख़ुदा का ज़रिया मेरा
तुझी से होता शुरू ये मेरा कारवाँ
तुझी पे जाके ख़तम
ये मेरा सारा जहाँ

वास्ते जान भी दूँ
मैं गवाँ ईमान भी दूँ
क़िस्मतों का लिखा मोड़ दूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close
%d bloggers like this: