song Raabta with lyrics

The song Raabta with lyrics by ARIJIT SINGH | NIKHITA GANDHI

“🎧 The song Raabta with lyrics in Hindi and English  “

🎬 🎧 Credits: The Song Raabta Title was sung by Arjit Singh & Nikhita Gandhi Music by Pritam Lyrics by Irshad Kamil and Amitabh Bhattacharya. Starting Deepika  

“🎧  Raabta lyrics in English  “

Tujhse kiya hai dil ne bayaan
Kiya nigaahon ko zubaan
Waada wafaa ka kiya

Tujhse liya hai khud ko mila
Liya duaavon ka sila
Jeene ka sapna liya…

Dil ke makaan mein
Tu mehmaan rahaa, rahaa
Aankhon ki zubaan
Kare hai bayaan kahaa ankahaa…

Kuch toh hai tujhse raabta
Kuch toh hai tujhse raabta
Kyun hai yeh kaise hai yeh tu bata
Kuch toh hai tujhse raabta

Hmm.. Meherbani jaate jaate mujhpe kar gaya
Guzarta saa lamha ek daaman bhar gaya
Tera nazaara mila, roshan sitaara mila
Taqdeer ka jaise koi ishaara mila

Tera ehsaan lage hai jahan mein khila
Haan khila..
Sapno mein mere tera hi nishaan mila
Haan mila…

Kuch toh hai tujhse raabta
Kuch toh hai tujhse raabta
Kyun hai yeh kaise hai yeh tu bata
Kuch toh hai tujhse raabta

Hadh se zyada mohabbat hoti hai jo
Kehte hain ke ibaadat hoti hai woh

Qusoor hai ya koi yeh fitoor hai
Kyun lage sab kuch andhera hai
Bas yeh hi noor hai [x2]

Jo bhi hai manzoor hai..

Kuch toh hai tujhse raabta
Kuch toh hai tujhse raabta
Kyun hai yeh kaise hai yeh tu bata
Kuch toh hai tujhse raabta [x2]

Na jaane kya pata…

“🎧  Raabta lyrics in Hindi “

तुझसे किया है दिल ने बयां
किया निगाहों को जुबां
वादा वफ़ा का किया

तुझसे लिया है खुद को मिला
लिया दुआओं का सिला
जीने का सपना लिया..

दिल के मकान में
तू मेहमान रहा, रहा
आँखों की जुबां
करे है बयान कहा कहा

कुछ तो है तुझसे राबता
कुछ तो है तुझसे राबता
क्यूँ है ये कैसे है ये तू बता
कुछ तो है तुझसे राबता

हम्म.. मेहेरबानी जाते जाते मुझपे कर गया
गुज़रता सा लम्हा एक दामन भर गया
तेरा नज़ारा मिला रोशन सितारा मिला
तक़दीर का जैसे कोई इशारा मिला

तेरा एहसान लगे है जहाँ में खिला
हाँ खिला..
सपनो में मेरे तेरा ही निशाँ मिला
हाँ मिला..

कुछ तो है तुझसे राबता
कुछ तो है तुझसे राबता
क्यूँ है ये कैसे है ये तू बता
कुछ तो है तुझसे राबता

हद से ज्यादा मोहब्बत होती है जो
कहते हैं के इबादत होती है वो

[कुसूर है या कोई ये फ़ितूर है
क्यूँ लगे सब कुछ अँधेरा है
बस ये ही नूर है] x 2

जो भी है मंज़ूर है..

[कुछ तो है तुझसे राबता
कुछ तो है तुझसे राबता
क्यूँ है ये कैसे है ये तू बता
कुछ तो है तुझसे राबता] x 2

न जाने क्या पता..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *